अमित कल्ला
 


कौन बड़ा ?
गाँव के
बच्चे कहते हैं
कौन बड़ा ?
पटवारी या पेड़
तहसीलदार या फिर सदियों की तहज़ीब
कलेक्टर या कृषक
मैं कहता
निश्चित ही
मन बच्चों का ज्यादा बड़ा है
पेड़, पवन, पानी - जैसा ही
क्योंकि
छोटा जो है इन सब का
अहंकार !
वे लोग
मालिक नहीं बनते कभी
आज भी नहीं

वे लोग
बांटते हैं सुख, सौंदर्य असीम
पाटते हैं शहरों की भूख
बहुत सारे" नहीं " के बावजूद भी
वे लोग
जानते हैं अर्थ
शामलात के

वे लोग
विकास से नहीं डरते
डरते हैं
उसके छिपे
भावार्थों से |

 


मेरी बात | समकालीन कविता | कविता के बारे में | मेरी पसन्द | कवि अग्रज
हमसे मिलिए | पुराने अंक | रचनाएँ भेजिए | पत्र लिखिए | मुख्य पृष्ठ